Success story of a New onion variety: Arka Bheem

 

An onion farmer, Shri.Chandrappa (Mob: 9740178393) belonging to Jagalur Taluk, Jammapura, Davangiri, Karnataka has taken up cultivation of IIHR onion variety Arka Bheem. He has sown the crop during May, 2017 in an area of 2 acres. He observed complete germination and could maintain good plant population. He expressed that the crop was very vigorous and farmers of the village used to visit his field to appreciate the crop. He harvested 410 bags (55-60kg each) of good quality bulbs. He auctioned the same in APMC at Bangalore and fetched a price of Rs. 34-40/kg. The traders appreciated the colour, shape and skin texture of the variety. The farmer expressed happiness that he has made a good profit with double the income from this variety compared to all varieties which he has grown previously. He also opined that this is the only variety he has seen which can withstand continuous rainfall. He has also taken up multiplication of the seeds of this variety for popularising in his area.

 

Share it now!

Share it now!

Arka Fermented Cocopeat – Makes an Entry into the Nursery Hub of India

 

The Kadiyam Mandal of East Godavari District of Andhra Pradesh, spread over eleven villages occupying an area of 3500 acres is often touted as the nursery hub of India owing to the presence of a large number of ornamental and fruit nurseries. The nursery entrepreneurship provides employment to over 20,000 residents from nearby villages and other places. The planting material produced in this Mandal is known all over India for their quality and variety. From the year 2011, big nursery farmers from this region started exporting nursery plants to Middle East nations, thereby making a mark in the international arena. But commensurate to the expansion of the nursery entrepreneurship, the region has been facing the loss of precious top soil, which is  a major input in the production of the nursery potting media.  Alarmed by this situation the Department of Horticulture, Govt. of Andhra Pradesh requested ICAR-IIHR to train nursery men of the region on alternative substrates for nursery production. In this regard ICAR – IIHR organized a two day training programme during September 2016 on the production and utilization  of Arka Fermented Cocopeat (AFC) for a batch of fifteen nurserymen, sponsored by the Department of Horticulture. Enthused by the training and the substrate performance, Mr. Namballa Durga Prasad, a young and  progressive entrepreneur of the Savarappu Kadiyam village started to produce AFC  and experiment with the production of various kinds of ornamental plants such as palms and flowering plants like petunias. He observed improved plant establishment as a result of better root development  in AFC compared to the commercially available cocopeat and set up a polyhouse based nursery unit producing both vegetable and flower seedlings using AFC. In a meeting jointly organized by the Sir. Arthur Cotton Nursery Farmers Association of Kadiyam and Department of Horticulture on 22nd of November 2017 at Kadiyam ,he shared his experiences with the production of AFC and its performance in a variety of plants with fellow nursery men of the region who were highly impressed by the ease of preparation of the cocopeat, its cost effectiveness and superiority over commercially available cocopeat. According Mr. Durga Prasad, plants produced on AFC besides having superior establishment, weigh nearly two-third’s  lower than plants raised on conventional potting media, thereby leading to savings on transport costs and handling expenditure. Dr.G.Selvakumar, Principal  Scientist, addressed the gathering and asked them to take up AFC production for the production of better quality plants and to conserve precious top soil of the region. With the sustained effort by the Dept. of Horticulture, Govt. of A.P. and ICAR-IIHR it is expected that AFC wold continue to make an impact in the nursery hub of India.

 

Share it now!

सब्जी उत्पादन से निकाला समृद्धि का रास्ता

सब्जियों के उत्पादन के जरिए किसानों को समृद्ध बनाने की मध्यप्रदेश सरकार की कोशिशें सफल होने लगी हैं। काश्तकारों की माली हालत सुधारने के लिए सब्जी की खेती को बढ़ावा देने से ही गुना जनपदीय अंचल के हिनोतिया ग्राम के एक मामूली-से किसान रतिराम करोड़पति बन गए हैं। जो रतिराम कभी पैदल चला करते थे। वह आज मैटाडोर और मोटर साइकिल पर चलते हैं।

मामूली खेतीबाड़ी से जीवन का सफर शुरू करने वाले रतिराम के पास काफी जमीन होने के बावजूद वह पानी की कमी के कारण उसका उपयोग नहीं कर पा रहे थे। वह पारंपरिक रूप से बारिश के पानी के भरोसे मुश्किल से थोड़ी-बहुत ज्वार, गेहूँ, चना ही पैदा कर पाते थे जिससे मामूली आमदनी होने के साथ-साथ वह घर में खाने के काम ही आ पाता था। वे आर्थिक तंगी का शिकार हो रहे थे।

वे अपनी खाली पड़ी जमीन से खेती करके अच्छी खासी कमाई करने के सपने देखने लगे। लेकिन खेती के लिए सिंचाई एवं अन्य संसाधनों की जरूरत थी और संसाधन उनके पास थे नहीं। लेकिन राज्य सरकार के उद्यानिकी विभाग ने इस काम में रतिराम की मदद की और उन्हें अनुदान पर टपका सिंचाई सिस्टम, अमरूद एवं आंवले के पौधे, हाईब्रीड टमाटर, भिण्डी, आलू, लहसुन, मिर्च के बीज, स्प्रिंकलर, पावर स्प्रे पंप, पावर ट्रिलर दिलवाए और पैक हाउस स्थापित कराया। इस मदद ने रतिराम की किस्मत पलट दी।

शासकीय मदद से प्राप्त संसाधनों की बदौलत जब उन्होंने नए सिरे से खेती शुरू की तो मानो चमत्कार हो गया। पहली बार में ही उन्होंने उद्यानिकी फसलों से लाखों रूपये का कारोबार किया। आज उद्यानिकी फसलों ने रतिराम का जीवन स्तर बदल दिया है। रतिराम अब गेहूं, ज्वार के बजाए लाभ देने वाली सब्जियों की फसल बो रहे हैं। वे आज उद्यानिकी फसलों के प्रमुख उत्पादक बन गए हैं।

सालाना कमाते हैं एक करोड़ तक

वे सालाना एक करोड़ रूपये तक का शुद्ध मुनाफा कमा रहे हैं। वे मोबाइल से मंडी के भाव पता करते हैं। सब्जियों से हुई कमाई से उन्होंने एक मैटाडोर और तीन मोटर साइकिलें, दो ट्रेक्टर खरीद लिए। इतना ही नहीं, उन्होंने तीन कुए खुदवाए, बारह ट्यूबवेल करवाए, चार मकान बनवाए, खेती के लिए बीस बीघा जमीन खरीदी तथा दो बेटों एवं एक बेटी की धूमधाम से शादी की। उन्होंने खेती के लिए करीब 100 बीघा जमीन ठेके पर ले ली है।

अप्रत्याशित रूप से रतिराम की सब्जियों का व्यापार बढ़ा है। यह न केवल गुना में बल्कि बाहर भी अपना बाजार पा रहा है। अपने मुनाफे के बारे में रतिराम ने बातचीत में कहा कि कृषि के दूसरे व्यापार में इतना पैसा नहीं मिलता, जितना सब्जी के कारोबार में मिलता है। किन्तु उनकी जिन्दगी बदलने में सरकारी मदद का भी बहुत बड़ा योगदान है। कलेक्टर राजेश जैन कहते हैं, “खेती-किसानी और फसल उत्पादन बढ़ाने के लिए संसाधन एवं तकनीकी मार्गदर्शन सुलभ कराकर सरकार काश्तकारों को लगातार प्रोत्साहित कर रही है। ये संसाधन भरपूर फसल लेने के लिए काफी कारगर हैं।

 
 
Share it now!